गाजियाबाद का IPS मुनिराज को बनाया गया

hindi news 

गाजियाबाद में आए दिन चोरी, डकैती, लूट और सड़कों पर दिनदहाड़े महिलाओं के साथ चेन स्नेचिंग की घटनाएं सामने आ रही हैं. दुकानों से चोरी की घटनाओं ने भी व्यापारियों को डरा दिया है.

गाजियाबाद के एसएसपी पवन कुमार के निलंबन के बाद अब आईपीएस अधिकारी मुनिराज जिले की कमान संभालेंगे. आईपीएस अधिकारी मुनिराज की तैनाती अस्थायी तौर पर हुई है. पुलिस महानिरीक्षक संजीव गुप्ता ने उन्हें तत्काल पदभार संभालने का निर्देश दिया है.

2009 बैच के आईपीएस अधिकारी मुनिराज को गाजियाबाद में बढ़ते क्राइम पर रोक लगाने का महत्वपूर्ण टास्क मिला है. दरअसल, पिछले दिनों गाजियाबाद में कई चोरी, डकैती, लूट और सड़कों पर दिनदहाड़े महिलाओं के साथ चेन स्नेचिंग की घटनाएं सामने आई हैं. दुकानों से चोरी की घटनाओं ने व्यापारियों को भी डरा दिया है. साथ ही पेट्रोल पंप कर्मचारियों के साथ हुई लूटपाट के बाद आम लोग ज्यादा दहशत में हैं.

मुनिराज पहले भी संभाल चुके हैं गाजियाबाद की कमान
इससे पहले भी 2009 बैच के आईपीएस अधिकारी मुनिराज गाजियाबाद में एडिशनल एसपी के तौर पर तैनात रह चुके हैं. मुनिराज मूल रूप से तमिलनाडु के रहने वाले हैं और फिलहाल पुलिस हेडक्वार्टर के चुनाव सेल में तैनात थे. चुनाव सेल में तैनाती से पहले इनकी तैनाती आगरा में थी. माना जाता है कि पिछले साल अक्टूबर में अरुण बाल्मीकि की कस्टोडियल डेथ के मामले में मुनिराज को आगरा से हटा दिया गया था.

तमिलनाडु के एक किसान परिवार मे जन्मे मुनिराज 2009 बैच के आईपीएस ऑफिसर हैं. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत बतौर एडिशनल एसपी बनारस से शुरू हुई थी. उसके बाद एएसपी गाजियाबाद, एएसपी रूरल शाहजहांपुर, एसपी सिटी गाजियाबाद, एसपी चंदौली, एसपी हमीरपुर, एसपी पीलीभीत, एसपी मऊ, एसपी बुलंदशहर और एसपी ट्रेनिंग, एसएसपी अलीगढ़ में भी तैनात रह चुके हैं.मुनिराज को एक तेजतर्रार पुलिस अफसर माना जाता है. पुलिस अधीक्षक के तौर पर सबसे पहले इनकी तैनाती पूर्वी उत्तर प्रदेश के चंदौली में थी.

मुनिराज की खेल में भी काफी रूचि है और धावक के तौर पर उन्होंने राष्ट्रीय स्तर के कई मेडल भी जीते हैं. साथ ही साथ उन्होंने मैराथन में भी अपना लोहा मनवाया है और अवार्ड जीते हैं. मुनिराज को विपरीत परिस्थितियों में काम करने का एक्सपर्ट माना जाता है. सीएए प्रोटेस्ट के दौरान मुनिराज की तैनाती अलीगढ़ में थी और उन्होंने वहां पर बेहतरीन काम किया था. इसी तरह आगरा में कोरोना के काल के दौरान भी मुनिराज ने काफी अच्छे काम किए. हालांकि आगरा में अरुण बाल्मीकि की कस्टोडियल डेथ को लेकर मुनिराज को आगरा से हटा दिया गया था.

कुछ ही दिन पहले हुआ था एसएसपी का निलंबन
गाजियाबाद जिले के एसएसपी पवन कुमार को निलंबित कर दिया गया था. उन पर ड्यूटी में लापरवाही और अपराध को नियंत्रित करने में विफलता के बाद एक्शन लिया गया. पवन कुमार 2021 अगस्त में मुरादाबाद से गाजियाबाद आए थे. पवन कुमार 2009 बैच के आइपीएस अधिकारी हैं और मूलरूप से राजस्थान के हनुमानगढ़ के रहने वाले हैं. वो गाजियाबाद में सिर्फ सात महीने ही रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button