रंजीत सिंह मर्डर केस मैं गुरमीत राम रहीम समेत 5 दोषियों को उम्रकैद

indiahindinews

नवी दिल्लीः  राम रहीम व अन्य को साल 2002 में पूर्व डेरा प्रबंधक रंजीत सिंह (Ranjeet Singh Murder Case) की हत्या के मामले में 8 अक्टूबर को दोषी ठहराया गया था. सजा के ऐलान से पहले हरियाणा के पंचकूला जिले में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी करते हुए धारा-144 लागू कर दी गई.

रंजीत सिंह की साल 2002 में 10 जुलाई को हत्या कर दी गई थी. इस मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने की और पूरा मामला सीबीआई की स्पेशल अदालत में ही चला. घटना के 19 साल बीत जाने के बाद इस महीने की शुरुआत में राम रहीम समेत पांच लोगों को दोषी ठहराया गया था.

सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम (Ram Rahim) को हत्या के एक मामले में सीबीआई की विशेष अदालत (CBI Special Court) ने सोमवार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. इसके अलावा, चार अन्य को भी उम्रकैद की सजा सुनाई गई है.

साल 2017 में बलात्कार के एक मामले में राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद 36 लोग मारे गए थे. पिछली सुनवाई के दौरान सीबीआई ने कोर्ट से डेरा प्रमुख के लिए मौत की सजा की मांग की थी. अगस्त 2017 की हिंसा को देखते हुए राम रहीम से जुड़े किसी भी मामले में सुनवाई या फिर सजा के ऐलान से पहले सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ा दिया जाता है.

वहीं, खुद राम रहीम ने रोहतक जेल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए दया की गुहार लगाई थी. राम रहीम जेल में दो अनुयायियों के साथ बलात्कार करने के लिए 20 सालों की सजा काट रहा है. राम रहीम ने कोर्ट के सामने दया की गुहार लगाते हुए ब्लड प्रेशर, आंख और गुर्दे संबंधी अपनी बीमारियों का भी हवाला दिया था

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button